Ghar Shayari In Hindi | घर पर शायरी

Ghar Shayari In Hindi | घर पर शायरी

 

एक हम सख़ावत में घर का घर लुटा बैठे
एक वो ख़यानत से अपना घर सजा बैठे – अल्तमश शम्स

 

Ek Hum Sakhawat Me Ghar Ka Ghar Luta Baithe

Ek Wo Khayanat Se Apna Ghar Saza Baithe – Altamash Shams

 

घर के फ़र्द अपने घर को भूल गए
हम-सफ़र हम-सफ़र को भूल गए – निहाल रिज़वी

 

Ghar Ke Fard Apne Ghar Ko Bhool Gaye

Hum-Safar – Hum Safar Ko Bhool Gaye – Nihal Rizvi

 

घर में बेचैनी हो तो अगले सफ़र की सोचना
फिर सफ़र नाकाम हो जाए तो घर की सोचना – शुजा ख़ावर

 

Ghar Me Bechaini Ho Toh Agle Safar Ki Sochana

Phir Safar Nakaam Ho Jaaye Toh Ghar Ki Sochana – Shuja Khavar

 

भीड़ के ख़ौफ़ से फिर घर की तरफ़ लौट आया
घर से जब शहर में तन्हाई के डर से निकला – अलीम मसरूर

 

Bheed Ke Khauf Se Phir Ghar Ki Taraf Laut Aaya

Ghar Se Jab Shehar Me Tanhaayi Ke Darr Se Nikla – Aleem Masroor

 

Ghar Shayari 2 Lines

 

कपड़े अपने घर के हैं
धब्बे दुनिया-भर के हैं – सय्यद ज़मीर जाफ़री

 

Kapde Apne Ghar Ke Hai

Dhabbe Duniya Bhar Ke Hai – Sayeed Zameer Zafari

 

ख़ुशी से अपना घर आबाद कर के
बहुत रोएँगे तुम को याद कर के – ज़हीर रहमती

 

Khushi Se Apna Ghar Abaad Kar Ke

Bahut Royenge Tumko Yaad Kar Ke – Zaheer Rehmati

 

इश्क़ का एक घर हमारा है
बाक़ी सारा-जहाँ तुम्हारा है – नज़र कानपुरी

 

Ishq Ka Ek Ghar Hamara Hai

Baaki Saara Jahan Tumhara Hai – Nazar Kanpuri

 

Ghar Shayari In English

 

घर नहीं रहगुज़र में रहता है
पाँव मेरा सफ़र में रहता है – जी आर कँवल

 

Ghar Nahi Rehgujar Me Rehta Hai

Paaw Mera Safar Me Rehta Hai – G.R. Kaval

 

तुम परिंदों से ज़ियादा तो नहीं हो आज़ाद
शाम होने को है अब घर की तरफ़ लौट चलो – इरफ़ान सिद्दीक़ी

 

Tum Parindo Se Jyada Toh Nahi Ho Azaad

Shaam Hone Ko Hai  Ab Ghar Ki Taraf Laut Chalo – Irfaan Siddiqui

 

उन दिनों घर से अजब रिश्ता था
सारे दरवाज़े गले लगते थे – मोहम्मद अल्वी

 

Un Dino Ghar Se Ajeeb Rishta Tha

Saare Darwaaje Gale Lagte The – Mohammad Alvi

 

कोई भी घर में समझता न था मिरे दुख सुख
एक अजनबी की तरह मैं ख़ुद अपने घर में था – राजेन्द्र मनचंदा बानी

 

Koi Bhi Ghar Me Samajhata N Tha Mere Dukh-Sukh

Ek Ajanabi Ki Tarah Mai Khud Apne Ghar Me Tha – Rajendra Manchanda Baani

 

Ghar Ki Yad Shayari In Hindi

 

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में,
तुम तरस नहीं खाते बस्तियां जलाने में? – बशीर बद्र

 

Log Toot Jaate Hai Ek Ghar Banane Me

Tum Taras Nahi Khaate Bastiyaan Jalane Me – Bashir Badr

 

पता अब तक नहीं बदला हमारा
वही घर है वही क़िस्सा हमारा – अहमद मुश्ताक़

 

Pata Ab Tak Nahi Badala Hamara

Wahi Ghar Hai Wahi Kissa Hamara – Ahmad Mushtak

 

ज़लज़ला आया तो दीवारों में दब जाऊँगा
लोग भी कहते हैं ये घर भी डराता है मुझे – अख़्तर होशियारपुरी

 

Jaljala Aaya Toh Deewaron Me Dab Jaunga

Log Bhi Kehte Hai Ye Ghar Bhi Darata Hai Mujhe – Akhtar Hosiyarpuri

 

कब आओगे ये घर ने मुझ से चलते वक़्त पूछा था
यही आवाज़ अब तक गूँजती है मेरे कानों में – कफ़ील आज़र अमरोहवी

 

Kab Aaoge Ye Ghar Ne Mujhse Chalte Wakt Poocha Tha

Yahi Awaaj Ab Tak Goonjati Hai Mere Kaano Me – Kafeel Aajar Amrohavi

 

Ghar Vapasi Shayari In Hindi

 

कभी तो शाम ढले अपने घर गए होते
किसी की आँख में रह कर सँवर गए होते – बशीर बद्र

 

Kabhi Toh Shaam Dhale Apne Ghar Gaye Hote

Kisi Ki Aankh Me Reh Kar Sawar Gaye Hote – Bashir Badr

 

तमाम रिश्तों को मैं घर पे छोड़ आया था,
फिर उस के बाद मुझे कोई अजनबी नहीं मिला। – बशीर बद्र

 

Tamaam Rishton Ko Mai Ghar Pe Chhor Aaya Tha

Phir Uske Baad Mujhe Koi Ajanabi Nahi Mila – Bashir Badr

 

उस की आँखों में उतर जाने को जी चाहता है
शाम होती है तो घर जाने को जी चाहता है – कफ़ील आज़र अमरोहवी

 

Uski Aanko Me Utar Jaane Ko Ji Chahata Hai

Shaam Hoti Hai Toh Apne Ghar Jaane Ko Ji Chahata Hai – Qafeel Aajar Amrohavi

 


Read More –