Garmi Shayari In Hindi | गर्मी पर शायरी

Garmi Shayari In Hindi | गर्मी पर शायरी

गर्मी का है ज़माना
सर्दी हुई रवाना -हैदर बयाबानी

 

Garmi Ka Hai Zamana

Sardi Hui Rawana – Haidar Bayabaani

 

ढूँड रहा है हर इक साया

गर्मी ने इतना गर्माया – मोहम्मद शरफ़ुद्दीन साहि

 

Dhoondh Raha Hai Har Ik Saaya
Garmi Ne Itna Garmaaya – Mohammad Sharfuddin Saahil

 

गर्मी के ज़ुल्म से ये
दुनिया दहक रही थी -मोहम्मद असदुल्लाह

 

Garmi Ke Zilm Se Ye

Duniya Dehak Rahi Thi – Mohammad Asdullah

 

ग़म की गर्मी से दिल पिघलते रहे

तजरबे आँसुओं में ढलते रहे – अर्श सिद्दीक़ी

 

Gum Ki Garmi Se Dil Pighate Rahe

Tajarbe Aansuo Me Dhalte Rahe – Arsh Siddiqui

 

न गर्मी रखे कोई उस से ख़ुदाया

शरारत से जी जिस ने मेरा जलाया – जुरअत क़लंदर बख़्श

 

N Garmi Rakhe Koi Us Se Khudaya

Shararat Se Ji Jis Ne Mer Jalaya – Jurrat Kalandar Baksh

 

सर्दी और गर्मी के उज़्र नहीं चलते

मौसम देख के साहब इश्क़ नहीं होता – मुईन शादाब

 

Sardi Aur Garmi Ke Ujr Nahi Chalte

Mausam Dekh Ke Sahab Ishq Nahi Hota – Mueen Shadaab

 

गर्मी लगी तो ख़ुद से अलग हो के सो गए
सर्दी लगी तो ख़ुद को दोबारा पहन लिया – बेदिल हैदरी

 

Garmi Lagi Toh Khud Se Alag Ho Ke So Gaye

Sardi Lagi Toh Khud Ko Dobara Pehan Liya – Bedil Haidari

 

गर्मी मिरे क्यूँ न हो सुख़न में
इक आग सी फुंक रही है तन में – जुरअत क़लंदर बख़्श

 

Garmi Mere Kyu N Ho Sukhan Me

Ik Aag Si Fook Rahi Hai Tabn Me – Jurrat Kalandar Baksh

 

ख़्वाब गर्मी की छुट्टीयों पे गए
हो गए बंद गेट आँखों के – फ़हीम शनास काज़मी

 

Khwaab Garmi Ki Chuttiyon Pe Gaye

Ho Gaye Band Gate Aankho Ke – Faheem Shanaash Kazami

 

गर्मी-ए-शिद्दत-ए-जज़्बात बता देता है
दिल तो भूली हुई हर बात बता देता है – बक़ा बलूच

 

Garmi-e-Shiddat-eJajbaat Bata Deta Hai

Dil Toh Bhooli Hui Har Baat Bata Deta Hai – Baka Balooch

 

मुर्दा रगों में ख़ून की गर्मी कहाँ से आई
थी शाख़ सब्ज़ फूल में सुर्ख़ी कहाँ से आई – सलीम शाहिद

 

Murda Rago Me Khoon Ki Garmi Kahan Se Aayi

Thi Shaakh Sabz Phool Me Surkhi Kahan Se Aayi – Saleem Shahid

 

गिरते हैं लोग गर्मी-ए-बाज़ार देख कर
सरकार देख कर मिरी सरकार देख कर – अब्दुल हमीद अदम

 

Girte Hai Log Garmi-eBazaar Dekh Kar

Sarkaar Dekh Kar Mere Sarkaar Dekh Kar – Abdul Hameed Adam

 

लगी रहती है अश्कों की झड़ी गर्मी हो सर्दी हो
नहीं रुकती कभी बरसात जब से तुम नहीं आए – अनवर शऊर

 

Lagi Rehati Hai Ashqo Ki Jhadi Garmi Ho Sardi Ho

Nahi Rukati Kabhi Barsaat Jab Se Tum Nahi Aaye – Anwar Shaur

 

गर्मी-ए-इश्क़ खिला देती है गालों पे गुलाब

याद आते हैं जो लम्हात गई रातों के – अलीना इतरत

 

Garmi-e-Ishq Khila Deti Hai Gaalon Pe Gulaab
Yaad Aate Hai Jo Lamhaat Gayi Raaton Ke – Aleena Israt

 

तुम्हारे होंट जिन के ज़िक्र की गर्मी से जलते हैं
हमारे जैसे दीवाने उन्हीं राहों पे चलते हैं – मोईद रहबर

 

Tumhare Honth Jin Ke Zikr Ki Garmi Se Jalte Hai

Hamare Jaise Deewane Unhi Raahon Pe Chalte Hai – Moeed Rahbar

 

शायद लोग इसी रौनक़ को गर्मी-ए-महफ़िल कहते हैं

ख़ुद ही आग लगा देते हैं हम अपनी तन्हाई को – शहज़ाद अहमद

 

Shayad Log Isi Raunak Ko Garmi-e-Mehfil Kahte Hai

Khud Hi Aag Laga Dete Hai Hum Apni Tanhaayi Ko – Shehzaad Ahmad

 

कुछ हश्र से कम गर्मी-ए-बाज़ार नहीं है
वो जिंस हूँ मैं जिस का ख़रीदार नहीं है – शोहरत बुख़ारी

 

Kuch Hashr Se Kam Garmi-e-Bazaar Nahi Hai

Wo Jins Hu Mai Jis Ka Koi Khariddaar Nahi Hai – Shohrat Bukhari

 

जून की गर्मी कड़कती धूप लू चलती हुई
हर घड़ी मज़दूर के सर से क़ज़ा टलती हुई – अर्श मलसियानी

 

June Ki Garmi Kadakti Dhoop Loo Chalti Hui

Har Ghadi Majdoor Ke Sar Se Kaja Talti Hui – Arsh Malsiyaani

 


Read More –

If You Want To Apply For Job – Click Now