Gareebi Shayari In Hindi | गरीब पर शायरी

Gareebi Shayari In Hindi | गरीब पर शायरी

 

ग़रीबी काटना आसाँ नहीं है
वो सारी उम्र पत्थर काटता है – खुर्शीद अकबर

 

Gareebi Katna Aasan Nahi Hai
Wo Saari Umr Patthar Katata Hai -Khurshid Akbar

 

ग़रीबी अमीरी है क़िस्मत का सौदा
मिलो आदमी की तरह आदमी से – हैरत गोंडवी

 

Gareebi-Ameeri Hai Kismat Ka Sauda
Milo Aadmi Ki Tarah Aadmi Se – Hairat Gondawai

 

मेरी मैली हथेली पर तो बचपन से
ग़रीबी का खरा सोना चमकता है – फ़राग़ रोहवी

 

Meri Maili Hatheli Par Toh Bachpan Se
Gareebi Ka Khara Sona Chamakata Hai – Faraag Rohawi

 

तन्हाई है ग़रीबी है सहरा है ख़ार है
कौन आश्ना-ए-हाल है किस को पुकारिए – हैदर अली आतिश

 

Tanhaai Hai Gareebi Hai Sehara Hai Khaar Hai
Kaun Ashna-e-Haal Hai Kis Ko Pukariye – Haidar Ali Aatish

 

वो सर्दी से ठिठुरता है न गर्मी ही सताती है
ये मौसम हार जाते हैं ग़रीबी जीत जाती है – मुसव्विर फ़िरोज़पुरी

 

Wo Sardi Se Thithurata Hai N Garmi Hi Satati  Hai
Ye Mausam Haar Jaate Hai Gareebi Jeet Jaati Hai – Musavvir Firoz puri

 

ग़रीबी में मोहब्बत कर ली मैं ने
नया ग़म और पैदा हो गया ना – बिलाल राज़

 

Gareebi Me Mohabbat Kar Li Maine
Naya Gum Aur Paida Ho Gaya Na – Bilaal Raj

 

ग़रीबी दूर करने आसमाँ से कौन आएगा
ख़ज़ाने से भरी गगरी इसी मिट्टी से निकलेगी – ताैफ़ीक़ साग़र

 

Gareebi Door Karne Aasmaan Se Kaum Aayega
Kahajane Se Bhari Gagri Isi Mitti Se Niklegi – Taufeek Sagar

 

ग़रीबी जुर्म है ऐसा कि देख कर मुझ को
निगाहें फेर के अपने पराए जाते हैं – पुरनम इलाहाबादी

 

Gareebi Zurm Hai Aisa Ki Dekh Kar Mujh Ko
Nigaahein Fer Ke Apne Paraye Jaate Hai – Purnam Illahabdi

 

ज़माने की ये हालत इंक़िलाबी हम ने देखी है
ग़रीबी हम ने देखी है नवाबी हम ने देखी है – अबदुस्समद जावेद

 

Zamane Ki Ye Halat Inklaabi Hum Ne Dekhi Hai
Gareebi Hamne Dekhi Hai Nawaabi Hamne Dekhi Hai – Abdussmad Javed

 

ग़रीबी को तो मिल ही जाती है दो वक़्त की रोटी
मगर दौलत के घर राहत बहुत मुश्किल से आती है – मसूद हस्सास

 

Gareebi Ko Toh Mil Jaati Hai Do Wakt Ki Roti
Magar Daulat Ke Ghar Rahat Bahut Mushkil Se Aati Hai – Masood Hassas

 

सुना है मैं ने नींद आती नहीं गर पेट ख़ाली हो
ग़रीबी ऐसा नुस्ख़ा है ये आदत डाल देती है – मोहम्मद नसीम नवाज़

 

Suna Hai Maine Nind Aati Nahi Gr Pet Khaali Ho
Gareebi Aisa Nushkha Hai Ye Aadat Daal Deti Hai – Mohammad Naseem Nawaz

 

किसी से मैं नहीं कहता मगर मेरी ग़रीबी
मेरी दीवारों का उखड़ा प्लस्तर जानता है – अमित अहद

 

Kisi Se Mai Nahi Kehata Magar Meri Gareebi
Meri1 Deewaron Ka Ukhada Plastar Janata Hai – Amit Ahad

 

अपने बच्चों के लिए लाख ग़रीबी हो मगर
माँ के पल्लू में कई सिक्के मिला करते हैं – लता हया

 

Apne Bachcho Ke Liye Laakh Gareebi Ho Magar
Maa Ke Pallu Me Kai Sikke Mila Karte Hai – Lata Haya

 

ग़रीबी देखती रहती है हसरत से खड़ी हो कर
दुकानों में खिलौनों को सलीक़े से रखा जाए – मोहसिन आफ़ताब केलापुरी

 

Gareebi Dekhati Rehati Hai Hasrat Se Khadi Hokar
Dukano Me Khilauno Ko Saleeke Se Rakha Jaaye – Mohsin Aaftaab Kelapuri

 

जुदाई में चढ़ाई जा रही है सर मोहब्बत
ग़रीबी में तिरा ख़र्चा उठाया जा रहा है – अज़लान शाह

 

Judaai Me Chadhi Ja Rahi Hai Sar Mohabbat
Gareebi Me Tera Kharcha Uthaya Ja Raha Hai – Azlaan Shah

 

सँवर जाए भी तो मुँह देखने दर्पन नहीं मिलता
ग़रीबी की कलाई में कोई कंगन नहीं मिलता – साबिर शाह साबिर

 

Sawar Jaaye Bhi Toh Muh Dekhne Darpan Nahi Milta
Gareebi Ki Kalayi Me Koi Kangan Nahi Milta – Sabir Shah Sabir

 


Read More –