Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

बस एक शाम का हर शाम इंतिज़ार रहा
मगर वो शाम किसी शाम भी नहीं आई – अजमल सिराज

 

Bas Ek Shaam Ka Har Shaam Intezaar Raha

Magar Wo shaam Kisi Shaam Bhi Nahi Aayi – Azmal Siraaj

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

शाम ढलने से फ़क़त शाम नहीं ढलती है
उम्र ढल जाती है जल्दी पलट आना मिरे दोस्त – अशफ़ाक़ नासिर

 

Shaam Dhalne Se Fakat Shaam Nahi Dhalati Hai

Umr Dhal Jaati Hai Jaldi Palat Aana Mere Dost – Ashfaaq Naasir

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

शाम बे-कैफ़ सही शाम है ढल जाएगी
दिन भी निकलेगा तबीअ’त भी सँभल जाएगी – जलील निज़ामी

 

Shaam Be-Kaif Sahi Shaam Hai Dhal Jayegi

Din Bhi Niklega Tabiat Bhi Sambhal Jayegi – Jaleel Nizaami

 

शाम अजीब शाम थी जिस में कोई उफ़क़ न था
फूल भी कैसे फूल थे जिन को सुख़न का हक़ न था – क़मर जमील

 

Shaam Ajeeb Shaam Thi Jis Me Koi Ufak N Tha

Phool Bhi Kaise Phool The Ji Ko Sukhan Ka Haq N Tha – Qamar Jameel

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

वो एक शाम बहुत चाहा कुछ लिखूँ लेकिन
वो एक शाम अजब थी मैं कुछ न लिख पाया – मुज़फ़्फ़र अबदाली

 

Wo Ek Shaam Bahut Chaha Kuch Likhun Lekin

Wo Ek Shaam Ajab Thi Mai Kuch N Likh Paaya – Mujaffar Abdaali

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

सुब्ह कुछ शाम कुछ ख़याल रहा
ये मोहब्बत में अपना हाल रहा – नासिर बशीर

 

Subah Kuch Shaam Kuch Khayal Raha

Ye Mohabbat Me Apna Haal Raha – Naasir Bashir

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

तड़प उठता हूँ यादों से लिपट कर शाम होते ही
मुझे डसता है मेरा सर्द बिस्तर शाम होते ही – राशिद अनवर राशिद

 

Tadap Uthata Hu Yaadon Se Lipat Kar Shaam Hote Hi

Mujhe Dansata Hai Mera Sard Bistar Shaam Hote Hi – Rashid Anwar Rashid

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

शाम के साहिल पे सूरज का सफ़ीना आ लगा
डूबती आँखों को ये मंज़र बहुत अच्छा लगा – शमीम हनफ़ी

 

Shaam Ke Shahil Pe Sooraj Ka Safina Aa Gaya

Doobati Aankhon Ka Ye Manjar Bahut Achcha Laga – Shameem Hanafi

 

Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

आज की शाम गुज़ारेंगे हम छतरी में
बारिश होगी ख़बरें सुन कर आया हूँ – इलियास बाबर आवान

 

Aaj Ki Shaam Hum Gujarenge Hum Chatari Me

Barish Hogi Khabre Sun Kar Aaya Hu – Iliyaas Babar Aaawan

 

कभी तो आसमाँ से चाँद उतरे जाम हो जाए
तुम्हारे नाम की एक खूबसूरत शाम हो जाए

 

Kabhi Toh Aasmaan Se Chand Utare Jaam Ho Jaaye

Tumhare Naam Ki Ek Khoobsurat Shaam Ho Jaaye

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

सुलगती शाम की दहलीज़ पर जलता दिया रखना
हमारी याद का ख़्वाबों से अपने सिलसिला रखना – मलिका नसीम

 

Sulagati Shaam Ki Dahaleej Par Jalta Diya Rakhna

Hamari Shaam Ka Khwaabon Se Apne Silsila Rakhna – Malika Naseem

 

शाम से आँख में नमीं सी है,
आज फिर आप की कमी सी है

 

Shaam Se Aankh Me Nami Si Hai

Aaj Phir Aap Ki Kami Si Hai

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

शाम होते ही चराग़ों को बुझा देता हूँ
दिल ही काफ़ी है तिरी याद में जलने के लिए

 

Shaam Hote Hi Charaagon Ko Bujha Deta Hu

Dil Hi Kaafi Hai Teri Yaad Me Jalne Ke Liye

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

जब शाम उतरती है क्या दिल पे गुज़रती है
साहिल ने बहुत पूछा ख़ामोश रहा पानी – अहमद मुश्ताक़

 

Jab Shaam Utarati Hai Kya Dil Pe Gujarati Hai

Saahil Ne Bahut Poocha Khamosh Raha Paani – Ahmad Mushtaaq

 

Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

शाम को उस ने मेरी ख़ातिर सजना छोड़ दिया
मैं ने भी दफ़्तर से जल्दी आना छोड़ दिया – यशब तमन्ना

 

Shaam Ko Us Ne Meri Khaatir Sajana Chod Diya

Maine Bhi Daftar Se Jaldi Aana Chod Diya – Yashab Tamanna

 

ढलेगी शाम जहाँ कुछ नज़र न आएगा
फिर इस के ब’अद बहुत याद घर की आएगी – राजेन्द्र मनचंदा बानी

 

Dhalegi Shaam Jahan Kuch Nazar N Aayegi

Phir Iske Baad Bahut Ghar Ki Yaad Aayegi – Rajendra Manchanda Baani

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

शाम होने को है जलने को है शम-ए-महफ़िल
साँस लेने की भी फ़ुर्सत नहीं परवाने को – शहज़ाद अहमद

 

Shaam Hone Ko Hai Jalne Ko Hai Sham-e-Mehfil

Sans Lene Ko Bhi Fursat Nahi Parwaane Ko – Shahzaad Ahmad

 

फ़िक्र सोई है सर-ए-शाम जगा दी जाए
एक बुझती सी अँगीठी को हवा दी जाए – अरशद कमाल

 

Fikr Soi Hai Sar-e-Shaam Jaga Di Jaaye

Ek Bujhati Si Aangithi Ko Hawa Di Jaaye – Arshad Kamaal

 

फूलों की ताज़गी में उदासी है शाम की
साए ग़मों के इतने तो गहरे कभी न थे – फ़राज़ सुल्तानपूरी

 

Fulon Ki Tajagai Me Udaasi Hai Shaam Ki

Saaye Gamon Ke Itne Toh Gehare Kabhi N The – Faraz Sultanpuri

 

ये अवध है कि जहाँ शाम कभी ख़त्म नहीं
वो बनारस है जहाँ रोज़ सहर होती है – अनवापुल हसन अनवार

 

Ye Awadh Hai Ki Jahan Shaam Kabhi Khatm Nahi

Wo Banaras Hai Jahan Roz Sahar Hoti Hai – Anwapul Hasan Anwaar

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

फिर याद बहुत आएगी ज़ुल्फ़ों की घनी शाम
जब धूप में साया कोई सर पर न मिलेगा – बशीर बद्र

 

Phir Yaad Aayegi Zulfon Ki Ghani Shaam

JabDhoop Me Saaya Koi Sar Par N Milega – Bashir Badr

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

किसी को क्या ख़बर ऐ सुब्ह वक़्त-ए-शाम क्या होगा
ख़ुदा जाने तिरे आग़ाज़ का अंजाम क्या होगा – शाद अज़ीमाबादी

 

Kisi Ko Kya Khabar -e -Subah, Wakt-e-Shaam Kya Hoga

Khuda Jaane Tere Ahaaz Ka Anjaam Kya Hoga – Shaad Ajimabaadi

 

 Evening Shayari In Hindi | शाम पर शायरी

 

मिले मुझे भी अगर कोई शाम फ़ुर्सत की
मैं क्या हूँ कौन हूँ सोचूँगा अपने बारे में – इक़बाल साजिद

 

Mile Mujhe Bhi Agar Koi Shaam Fursat Ki

Mai Kya Hu Kaun Hu Sochunga Apne Baare Me – Iqbal Saazid

 

शाम तक सुब्ह की नज़रों से उतर जाते हैं
इतने समझौतों पे जीते हैं कि मर जाते हैं – वसीम बरेलवी

 

Shaam Tak Subah Ki Nazron Se Utar Jaate Hai

Itne Sanjhauto Pe Jeete Hai Ki Mar Jaate Hai -Wasim Barelwavi

 

तिरा ख़याल सर-ए-शाम ग़म सँवरता हुआ
बहुत क़रीब से गुज़रा सलाम करता हुआ – मज़हर इमाम

 

Tera Khayal-Sar-e-Shaam Gam Sawarata Hua

Bahut Kareeb Se Gujra Salaam Karta Hua – Mazhar Imaam

 


Read More –