Dushman Shayari In Hindi | दुश्मन शायरी

Dushman Shayari In Hindi | दुश्मन शायरी

 

एक दुश्मन को बड़े प्यार से मेहमान किया
हम ने काँटों से सजे तश्त को गुल-दान किया – कलीम अख़्तर

 

Ek Dushman Ko Bade Pyaar Se Mehmaan Kiya

Hum Ne Kaanto Se Saje Tasht Ko Gul-Daan Kiya – Kaleem Akhtar

 

ये काफ़ी है कि हम दुश्मन नहीं हैं
वफ़ा-दारी का दावा क्यूँ करें हम – जौन एलिया

 

Ye Kaafi Hai Ki Dushman Nahi Hai

Wafa-Daari Ka Daawa Kyu Kare Hum – John Elia

 

दुश्मन अपना भी नहीं कोई फ़सादी भी नहीं
बात इधर की मैं उधर करने का आदी भी नहीं – सय्यद ज़ामिन अब्बास काज़मी

 

Dushman Apna Bhi Nahi Koi Fasadi Bhi Nahi

Baat Idhar Ki Mai Udhar Karne Ka Aadi Bhi Nahi – Sayyed Zaamin Abbas Kazami

 

ये कह कर मुझे मेरे दुश्मन हँसता छोड़ गए,
तेरे दोस्त काफी हैं तुझे रुलाने के लिए

 

Ye Keh Kar Mujhe Mere Dushman Hasta Chod Gaye

Tere Dost Kaafi Hai, Tujhe Rulaane Ke Liye

 

दुश्मनी लाख सही ख़तम न कीजिये रिश्ता,
दिल मिलें या न मिलें हाथ मिलाते रहिये

 

Dushmani Laakh Sahi,Khatm N Kijiye Rishta

Dil Mile Ya Na Mile Hath Milaate Rahiye – Nida Fazali

 

उस दुश्मन-ए-वफ़ा को दुआ दे रहा हूँ मैं
मेरा न हो सका वो किसी का तो हो गया – हफ़ीज़ बनारसी

 

Us Dushman-e-Wafa Ko Dua De Raha Hu Mai

Mere N Ho Saka Wo Kisi Ka Toh Ho Gaya – Hafeez Banarasi

 

दुश्मन गए तो कशमकश-ए-दोस्ती गई
दुश्मन गए कि दोस्त हमारे चले गए – सैफ़ुद्दीन सैफ़

 

Dushman Gaye Toh Kashmkash-e-Dosti Gayi

Dushman Gaye Ki Dost Hamare Chale Gaye – Saifuddin Saif

 

मुझे दुश्मन से भी ख़ुद्दारी की उम्मीद रहती है
किसी का भी हो सर क़दमों में सर अच्छा नहीं लगता – जावेद अख़्तर

 

Mere Dushman Se Bhi Khudaari Ki Umeed Rahti Hai

Kisi Ka Bhi Ho Sar Kadmon Me Sar Achcha Nahi Lagta – Javed Akhtar

 

Dushman Shayari In Hindi | दुश्मन शायरी

 

मेरे ही पाँव मिरे सब से बड़े दुश्मन हैं
जब भी उठते हैं उसी दर की तरफ़ जाते हैं – असग़र मेहदी होश

 

Mere Hi Paaon Mere Sabse Bade Dushman Hai

Jab Bhi Uthte Hai Usi Dar Ki Taraf Jaate Hai – Asgar Mehandi Hosh

 

अपने दुश्मन को तो मैं ऐसी सज़ा देती हूँ
क़त्ल करती नहीं नज़रों से गिरा देती हूँ – अस्मा रियाज़ अस्मा

 

Apne Dushman Ko Toh Mai Aisi Saza Deti Hu

Katl Karti Nahi Nazaron Se Gira Deti Hu – Asma Riyaaz Asma

 

मौत ही इंसान की दुश्मन नहीं
ज़िंदगी भी जान ले कर जाएगी – अर्श मलसियानी

 

Maut Hi Insaan Ka Dushman Nahi

Zindagi Bhi Jaan Le Kar Jayegi – Arsh Malsiyaani

 

है अब दुश्मन वही अपना बहुत था
उसे हम ने कभी चाहा बहुत था – सरवर साजिद

 

Hai Ab Dushman Wahi Apna Bahut Tha

Use Hamne Kabhi Chaha Bahut Tha – Sarvar Saazid

 

मुझ को दुश्मन के इरादों पे भी प्यार आता है
तिरी उल्फ़त ने मोहब्बत मिरी आदत कर दी – अहमद नदीम क़ासमी

 

Mujh Ko Dushman Ke Iraadon Pe Bhi Pyaar Aata Hai

Teri Ulfat Ne Mohabbat Meri Aadat Kar Di – Ahmad Nadeem Kasami

 

जो दुश्मन है उसे हमदम न समझो
नमक को ज़ख़्म का मरहम न समझो – अज़ीज़ मुबारकपुरी

 

Jo Dushman Hai Use Humdum N Samjho

Namak Ko Zakhm Ka Marham N Samjho – Azeez Mubarakpuri

 

हम अपनी जान के दुश्मन को अपनी जान कहते हैं
मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिंदुस्तान कहते हैं – राहत इंदौरी

 

Hum Apni Jaan Ke Dushman Ko Apni Jaan Kehte Hai

Mohabbat Ki Isi Mitti Ko Hindustaan Kehte Hai – Rahat Indori

 

कोई दुश्मन नहीं होता बुरे हालात के पीछे
कोई अपना ही होता है किसी भी घात के पीछे – सहर अली

 

Koi Dushman Nahi Hota Bure Halaat Ke Peeche

Koi Apna Hi Hota Hai Kisi Bhi Ghaat Ke Peeche – Sahar Ali

 

आप ही अपना मैं दुश्मन हो गया
तप गया सोना तो कुंदन हो गया – वजद चुगताई

 

Aap Hi Apna Mai Dushman Ho Gaya

Tap Gaya Sona Toh Kundan Ho Gaya – Wajad Chugtaayi

 

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा – निदा फ़ाज़ली

 

Us Ke Dushman Hai Bahut Aadmi Achcha Hoga

Wo Bhi Meri Hi Tarah Shehar Me Tanha Hoga – Nida Fazali

 

दोस्त का घर और दुश्मन का पता मालूम है
ज़िंदगी हम को तिरा ये सिलसिला मालूम है – शुजा ख़ावर

 

Dost Ka Ghar Aur Dushman Ka Pata Maloom Hai

Zindagi Hum Ko Tera Ye Silsila Maloom Hai – Shuza Khawar

 

जो दोस्त था वही दुश्मन है क्या किया जाए
अजब ख़लिश अजब उलझन है क्या किया जाए – वक़ार मानवी

 

Jo Dost Tha Wahi Dushman Hai Kya Kiya Jaaye

Ajab Khalish Ajab Uljhan Hai Kya Kiya Jaaye – Waqar Manavi

 

हो न दुश्मन को मोहब्बत से सरोकार कभी
कोई दुनिया में किसी को न करे प्यार कभी – लाला माधव राम जौहर

 

Ho N Dushman Ko Mohabbat Se Sarokaar Kabhi

Koi Duniya Me Kisi Ko N Kare Pyaar Kabhi – Lala Madhav Ram Jauhar

 

दुश्मन से भी हाथ मिलाया जा सकता है
दर्द का भी तो लुत्फ़ उठाया जा सकता है – अज़्मुल हसनैन अज़्मी

 

Dushman Se Bhi Hath Milaya Ja Sakta Hai

Dard Ka Bhi Toh Lutf Uthaya Ja Sakta Hai – Azmul Hasnain Azmi

 


Read More –