Dost Ban kar Bhi – Ahmad Faraz

Dost Ban kar Bhi – Ahmad Faraz

दोस्त बन कर भी

 

दोस्त बन कर भी नहीं साथ निभाने वाला
वही  अंदाज़  है  ज़ालिम  का  ज़माने  वाला

 

अब  उसे  लोग  समझते  हैं  गिरफ़्तार मिरा
सख़्त  नादिम  है  मुझे  दाम  में  लाने  वाला

 

सुब्ह-दम छोड़ गया निकहत-ए-गुल की सूरत
रात  को  ग़ुंचा-ए-दिल में  सिमट  आने वाला

 

क्या  कहें कितने  मरासिम  थे हमारे उस से
वो  जो इक  शख़्स है मुँह  फेर के जाने वाला

 

तेरे  होते  हुए  आ जाती  थी सारी  दुनिया
आज  तन्हा  हूँ  तो  कोई  नहीं  आने वाला

 

मुंतज़िर किस का हूँ टूटी हुई दहलीज़ पे मैं
कौन आएगा यहाँ कौन है आने वाला

 

क्या ख़बर थी जो मेरी जाँ में घुला है इतना
है वही मुझ को सर-ए-दार भी लाने वाला

 

मैं ने देखा है बहारों में चमन को जलते
है कोई ख़्वाब की ताबीर बताने वाला

 

तुम तकल्लुफ़ को भी इख़्लास समझते हो ‘फ़राज़’
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला

 

Dost Ban Kar Bhi

 

Dost Ban Kar Bhi Nahi Sath Nibhaane Waala
Wahi Andaaz Hai Zaalim Ka Jamane Waala

 

Ab Use Log Samjhte Hai Giraftaar Mera
Sakhta Naadim Hai Mujhe Daam Me Laane Wala

 

Subh-Dm Chod Gaya Niqhat-E-Gul Ki Surat
Raat Ko Guncha-E-Dil Me Simat Aane Waala

 

Kya Kahe Kitne Marasim The Hamare Us Se
Wo Jo Ik Shakhsh Hai Muh Fer K Jaane Walaa

 

Tere Hote Hue Aa Jaati Thi Saari Duniya
Aaj Tanha Hoon Toh Koi Nahi Aane Walaa

 

Muntzir Kis Ka Hoon Tooti Hui Dehliz Pe Mai
Kaun Ayega Yaha Kaun Hai Aane Waala

 

Kya Khabar Thi Jo Meri Jaan Me Ghula Hai Itna
Hai Wahi Mujhko Sar-E-Daar Bhi Laane Waala

 

Maine Dekha Hai Baharon Me Chaman Ko Jalte
Hai Koi Khwab Ki Taabeer Batane Waala

 

Tum Takalluf Ko Bhi Ikhlaas Samjhte Ho “Faraaz”
Dost Hota Nahi Har Hath Milaane Waala

 


Read More –