Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

 

Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

 

हम-सफ़र होता कोई तो बाँट लेते दूरियाँ
राह चलते लोग क्या समझें मिरी मजबूरियाँ – सरदार अंजुम

 

Hum-Safar Hota Koi Toh Baant Lete Dooriyaan

Raah Chalte Log Kya Samajhe Meri Majbooriyaan – Sardaar Anjum

 

भला हम मिले भी तो क्या मिले वही दूरियाँ वही फ़ासले
न कभी हमारे क़दम बढ़े न कभी तुम्हारी झिजक गई – बशीर बद्र

 

Bhala Hum Mile Bhi Toh Kya Mile Wahi Dooriyaan Wahi Fasale

N Kabhi Hamare Kadam Badhe N Kabhi Tumhari Jhijhak Gayi – Bashir Badr

 

दूरियाँ सिमटने में देर कुछ तो लगती है
रंजिशों के मिटने में देर कुछ तो लगती है – अमजद इस्लाम अमजद

 

Dooriyaan Simatane Me Der Kuch Toh Lagati Hai

Ranjishon Ke Mitane Me Der Kuch Toh Lagati Hai – Amzad Islaam Amzad

 

Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

 

ज़िंदगी शायद इसी का नाम है
दूरियाँ मजबूरियाँ तन्हाइयाँ – कैफ़ भोपाली

 

Zindagi Shayad Isi Ka Naam Hai

Dooriyaan Majbooriyaan Tanhaaiyaan – Kaif Bhopali

 

इस ख़ुशबू के सफ़र में
न सरहदें हैं न दूरियाँ – मसऊ़दा इमाम

 

Is Khusbu Ke Safar Me

N Sarhadein Hai N Dooriyaan – Masauda Imaam

 

Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

 

Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

 

बे-सबब दूरियाँ बढ़ाने से
प्यार का हक़ अदा नहीं होता – तारिफ़ नियाज़ी

 

Be-Shabab Dooriyaan Badhane Se

Pyaar Ka Haq Ada Nahi Hpta – Tariq Niyaazi

 

Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

 

पूछता हासिल ज़माना इश्क़ का
चाहतों में दूरियाँ हैं और क्या – मोनिका सिंह

 

Poochata Haasil Zamana Ishq Ka

Chahton Me Dooriyaan Hai Aur Kya – Monika Singh

 

Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

 

अब तो हमारे बीच कभी दूरियाँ भी हों
तंग आ गए हैं रोज़ की नज़दीकियों से हम – आलोक श्रीवास्तव

 

Ab Toh Hamare Beech Kabhi Dooriyaan Bhi Ho

Tang Aa Gaye Hai Roz Ki Najdikiyon Se Hum – Alok Srivastava

 

दिलों को तोड़ने वालो बढ़ा कर दूरियाँ देखो
मोहब्बत फ़ासले रख कर भी बेगानी नहीं होती – मक़सूद अनवर मक़सूद

 

Dilon Ko Todane Waalon Badhakar Dooriyaan Dekho

Mohabbar Fasale Rakh Kar bhi Begani Nahi Hoti – Maksood Anwar Maksood

 

Dooriyan Shayari In Hindi | दूरियाँ शायरी

 

मुझसे दूरियाँ बनाकर तो देखो,
फिर पता चलेगा कितना नज़दीक हूँ मैं

 

Mujhse Dooriyaan Banakar Toh Dekho

Phir Pata Chalega Kitna Najzik Hu Mai

 


Read More –