Dhokha Shayari In Hindi | धोखा शायरी

 

Dhokha Shayari In Hindi | धोखा शायरी

 

हम को लुत्फ़ आता है अब फ़रेब खाने में
आज़माएँ लोगों को, ख़ूब आज़माने में -आलम ख़ुर्शीद

 

Humko Lutf Aata Hai Ab Fareb Khane Me
Aajmaaye Logon Ko Khooob Aajmaane Me – Aalam Khurseed

 

दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे,
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे

 

Dil Se Roye Magar Hothon Se Muskura Baithe
Yun Hi Hum Kisi Se Wafa Nibha Baithe

 

इस इश्क ने  हम  दोनों  पे ही  सितम  ढाए हैं
फरेब तुमने भी खाए हैं धोके हमने भी खाए हैं 

 

Is Ishq Ne Hum Dono Pe Hi Sitam Dhaye Hai
Fareb Tumne Hi Khaye Hai, Dhokhe Humne Bhi Khaye Hai

 

मौत को जब आना था आ ही गई
जिंदगी की तरह नहीं दिया धोखा

 

Maut Ko Jab Aana Tha Aa Hi Gayi
Zindagi Ki Tarah Nahi Diya Dhokha

 

जिस से  बारहा  धोखा खाया  है दिल ने
फिर उसी काफ़िर की तमन्ना है दिल को 

 

Jis Se Baaraha Dhokha Khaya Hai Dil Ne
Phir Usi Kaafir Ki Tamanna Hai Dil Ko

 

Dhokha Shayari Image

 

बेवफा है दुनिया किसी का ऐतबार ना करो,
हर पल देते है धोखा किसी से प्यार ना करो

 

Bewafa Hai Duniya Kisi Ka Aitbaar Na Karo
Har Pal Dete Hai Dhokha Kisi Se Pyaar Na Karo

 

धोखा देती है अक्सर मासूम चेहरे की चमक,
हर काँच के टुकड़े को हीरा नहीं कहते

 

Dhokha Deti Hai Aksar Masoom Chehre Ki Chamak
Har Kaanch Ke Tukde Ko Heera Nahi Kehte

 

भुला देंगे तुझे भी जरा सबर तो  कीजिये
तुम्हारी तरह बेवफा होने मैं वक़्त तो लगेगा

 

Bhula Denge Tujhe Bhi Zara Sabar Toh Kijiye
Tumhari Tarah Bewafa Hone Me Wajt Lagega

 

मेरा दिल जानता है दोनों मंजर मैंने देखे है
तेरे आने पर क्या गुजरी ,तेरे जाने पर क्या गुजरी

 

Mera Dil Jaanata Hai Dono Manzar Maine Dekhe Hai
Tere Aane Par Kya Guzri, Tere Jaane Par Kya Guzari

 

तेरे वादों पे कहाँ तक मिरा दिल फ़रेब खाए,
कोई ऐसा कर बहाना मिरी आस टूट जाए  -फ़ना निज़ामी कानपुरी

 

Tere Waadon Pe Kahan Tak Mera Dil Fareb Khaaye
Koi Aisa Kar Bahana Meri Aas Toot Jaaye – Fana Nizaami Kanpuri

 

बरसों फ़रेब खाते रहे दूसरों से हम
अपनी समझ में आए बड़ी मुश्किलों से हम

 

Barso Fareb Khate Rahe Doosron Se Hum
Apni Samajh Me Aaye Badi Mushkil Se Hum

 

इनकार करते करते, इकरार कर बैठे,
हम तो एक बेवफा से प्यार कर बैठे

 

Inkaar Karte-Karte, Ikraar Kar Baithe
Hum Toh Ik Bewafa Se Pyaar Kar Baithe

 

Shayari On Dhokha

 

मुकद्दर मे रात की नींद मुनासिब नहीं तो क्या हुआ
हम भी मुकद्दर को धोखा दे कर दिन मे सो जाते है

 

Muqaddar Se Raat Ki Nind Munasib Nahi Toh Kya Hua
Hum Bhi Muqaddar Kp Dhokha Dekar Din Me So Jaate Hai

 

कौन है इस जहाँ मे जिसे धोखा नहीं मिला,
शायद वही है ईमानदार जिसे मौक़ा नहीं मिला

 

Kaun Hai Is Jahan Me Shayad Jise Dhokha Nahi Mila
Shayad Wahi Imaandaar Jise Mauka Nahi Mila

 


 
Read More –