Daag Dehlvi Ghazal & Achchi Surat Pe Gazab

 

Daag Dehlvi Ghazal “Achchi Surat Pe Gazab”

Achchi Surat Pe Gajab

अच्छी सूरत पे ग़ज़ब टूट के आना दिल का
याद आता है हमें हाय! ज़माना दिल का

 

तुम भी मुँह चूम लो बेसाख़ता प्यार आ जाए
मैं सुनाऊँ जो कभी दिल से फ़साना दिल का

 
पूरी मेंहदी भी लगानी नहीं आती अब तक
क्योंकर आया तुझे ग़ैरों से लगाना दिल का

 

इन हसीनों का लड़कपन ही रहे या अल्लाह
होश आता है तो आता है सताना दिल

 
मेरी आग़ोश से क्या ही वो तड़प कर निकले
उनका जाना था इलाही के ये जाना दिल का

 
दे ख़ुदा और जगह सीना-ओ-पहलू के सिवा
के बुरे वक़्त में होजाए ठिकाना दिल का

 
उंगलियाँ तार-ए-गरीबाँ में उलझ जाती हैं
सख़्त दुश्वार है हाथों से दबाना दिल का

 
बेदिली का जो कहा हाल तो फ़रमाते हैं
कर लिया तूने कहीं और ठिकाना दिल का

 

छोड़ कर उसको तेरी बज़्म से क्योंकर जाऊँ
एक जनाज़े का उठाना है उठाना दिल का

 

निगहा-ए-यार ने की ख़ाना ख़राबी ऎसी
न ठिकाना है जिगर का न ठिकाना दिल का

 

बाद मुद्दत के ये ऎ दाग़ समझ में आया
वही दाना है कहा जिसने न माना दिल का

Achchi Surat Pe Gajab

 

 

Achchi Surat Pe Gajab Toot Ke Aana Dil Ka
Yaad Aata Hai Hamein Haye Jamana Dil Ka

Tum Bhi Muh Chum Lo Be_saakhta Pyaar Aa Jaye
Mai Sunau Jo Kabhi Dil Se Fasana Dil Ka

 

Nigah-e-Yaar Ne Ki Khaana Kharaabi Aisi
N Thikana Hai Jigar Ka N Thikana Dil Ka

Poori Mehandi Bhi Lagani Nahi Aati
Kyukar Aaya Tujhe Gairo Se Lagana Dil Ka

 

Guncha-E-Dil Ko Wo Mutthi Me Liye Aate The
Maine Pucha To Kiya Mujhse Bahana Dil Ka

 

In Haseeno Ka Lakadpan Hi Rahe Ya Allah
Hosh Aata Hai To Aata Hai Satana Dil Ka

 

De Khuda Aur Jagah Seena-o-Pahlu Ke Siva
Ki Bure Wakt Me Hi Jaaye Thikana Dil Ka

 

Meri Aagosh Se Kya Hi Wo Tadap Kar Nikle
Un Ka Jaana Tha Ilaahi Ki Ye Jaana Dil Ka

 

Nigah-e-Sharm Ko Betaab Kiya Kaam Kiya
Rang Laaya Teri Aankho Ka Samna Dil Ka

 

Ungliyaan Taar-e-Garebaan Me Ulajh Jaati Hai
Sakht Dushwaar Hai Haatho Se Dabana Dil Ka

 

Hoor Ki Shakl Ho Tum Noor Ke Putle Ho Tum
Aur Is Par Tumhe Aata Hai Jalana Dil Ka

 

Chod Kar Is Ko Teri Bazm Se Kyukar Jaun
Ik Janaje Ka Uthana Hai Uthaana Dil Ka

Be-Dili Ka Jo Kaha Haal To Farmate Hai
Kar Liya Tu Ne Kahi Aur Thikana Dil Ka

 

Baad Muddat Ke Ye Ae “Daag” Samjh Me Aaya
Wahi Daana Hai Kaha Jis Ne N Maana Dil Ka

 


Read More –