Chand Shayari In Hindi | चाँद पर शायरी

Chand Shayari In Hindi | चाँद पर शायरी

 

काश एक ऐसी खूबसूरत रात हो
एक चांद आसमान में तो एक मेरे साथ हो

 

Kash Ek Aisi Khoobsurat Raat Ho
Ek Chand Aasmaan Me Toh Ek Mere Sath Ho

 

उस के चेहरे की चमक के सामने सादा लगा,
आसमाँ पे चाँद पूरा था मगर आधा लगा – Iftikhaar Naseem

 

Us Ke Chehare Ki Chamak Ke Saamane Saada Laga
Aasmaan Pe Chand Pura Tha Magar Aadha Laga 

 

ईद मना रहे हैं दुनिया वाले
मगर मुझे तो मेरा चांद ही नजर नहीं आया

 

Eid Mana Rahe Hai Duniya Waale
Magar Mujhe Toh Mera Chand Hi Nazar Nahi Aaya

 

वो चाँद कह के गया था कि आज निकलेगा,
तो इंतिज़ार में बैठा हुआ हूँ आज शाम से मैं – Farhat Ehsaas

 

Wo Chand Keh Ke Gaya Tha Ki Aaj Niklega
Toh Intezaar Me Baitha Hua Hu Aaj Shaam Se Mai 

 

रुसवाई का डर है या अंधेरों से मुहब्बत खुदा जाने,
अब मैं चाँद को अपने आँगन में उतरने नहीं देता

 

Ruswaai Ka Darr Hai Ya Andheron Se Mohabat Khuda Jaane
Ab Mai Chand Ko Apne Aangan Me Utarne Nahi Deta

 

कभी तो आसमाँ से चाँद उतरे जाम हो जाए
तुम्हारे नाम की इक ख़ूब-सूरत शाम हो जाए -बशीर बद्र

 

Chand Shayari In Hindi | चाँद पर शायरी

 

Kabhi Toh Aasmaan Se Chand Utare Jaam Ho Jaaye
Tumhare Naam Ki Ik Khoob-Surat Shaam Ho Jaaye – Bashir Badr

 

कितना भी कर ले, चाँद से इश्क़,
रात के मुक़द्दर मे, अँधियारे ही लिखे हैं

 

Kitana Bhi Kar Le Chand Se Ishq
Raat Ke Muqaddar Me Adhiyaare Hi Likhe Hai

 

तुझको देखा तो फिर उसको ना देखा मैंने,
चाँद कहता रह गया मैं चाँद हूँ मैं चाँद हूँ

 

Tujhko Dekha Toh Phir Usko Na Dekha Maine
Chand Kehata Raha Mai Chand Hu, Mai Chand Hu

 

आज टूटेगा गुरूर चाँद का तुम देखना यारो,
आज मैंने उन्हें छत पर बुला रखा है

 

Aaj Tootega Guroor Chand Ka Tum Dekhana Yaaron
Aaj Maine Unhe Chat Par Bula Rakha Hai

 

खूबसूरत गज़ल जैसा है तेरा चाँद सा चेहरा,
निगाहे शेर पढ़ती हैं तो लब इरशाद करते है

 

Khoobsurat Ghazal Jaisa Hai Tera Chand Sa Chehara
Niggahein Sher Padhti Hai Toh Lab Irshaad Karte Hai

 

बेचैन इस क़दर था कि सोया न रात भर
पलकों से लिख रहा था तेरा नाम चाँद पर

 

Bechain Is Qadar Tha Ki Soya N Raat Bhar
Palko Se Likh Raha Tha Tera Naam Chand Par

 

ना जाने किस रैन बसेरो की तलाश है इस चाँद को,
रात भर बिना कम्बल भटकता रहता है इन सर्द रातो में

 

Na Jaane Ki Rain Basero Ki Talash Hai Is Chand Ko
Raat Bhar Bina Kambal Bhatakata Rehata Hai In Sard Raaton Me

 

चाँद ख़ामोश जा रहा था कहीं
हम ने भी उस से कोई बात न की -महमूद अयाज़

 

Chand Khamosh Ja Raha Tha Kahin
Hum Ne Bhi Us Se Koi Baat N Thi – Mehmood Ayaaz

 

ईद का चाँद तुम ने देख लिया
चाँद की ईद हो गई होगी

 

Eid Ka Chand Tum Ne Dekh Liya
Chand Ki Eid Ho Gayi Hogi

 

तुम आ गये हो तो फिर चाँदनी सी बातें हों
ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है

 

Tum Aa Gaye Ho Toh Phir Chandani Si Baatein Ho
Zamee Pe Chand Kaha Roz-Roz Utarata Hai

 

हमारे हाथों में इक शक्ल चाँद जैसी थी 
तुम्हे ये कैसे बतायें वो रात कैसी थी

 

Hamare Hathon Me Ik Shakl Chand Jaisi Thi
Tumhe Ye Kaise Batayein Wo Raat Kaisi Thi

 

इतने घने बादल के पीछे
कितना तन्हा होगा चाँद – परवीन शाकिर

 

Itne Ghane Badal Ke Peeche
Kitna Tanha Hoga Chand -Parveen Shakir

 

मोहब्बत थी तो चाँद अच्छा था,
उतर गई तो दाग भी दिखने लगे

 

Mohabbat Thi Toh Chand Achcha Tha
Utar Gayi Toh Daag Bhi Dikhne Lage

 

रात भर तेरी तारीफ़ करता रहा चाँद से,
चाँद इतना जला, कि सूरज हो गया

 

Raat Bhar Teri Tareef Karta Raha Chand Se
Chand Itna Jala Ki Sooraj Ho Gaya

 

चाँद के साथ कई दर्द पुराने निकले
कितने ग़म थे जो तेरे ग़म के बहाने निकले

 

Chand Ke Sath Kai Dard Puraane Nikle
Kitne Gum The Jo Tere Gum Ke Bahane Nikle

 


 
Read More –