Beautiful Aaina Shayari In Hindi | आईना शायरी

Beautiful Aaina Shayari In Hindi | आईना शायरी

Beautiful Aaina Shayari In Hindi | आईना शायरी

 

 आइने से नज़र चुराते हैं

जब से अपना जवाब देखा है

-अमीर क़ज़लबाश

 

Aaine Se Nazar Churaate Hai

Jabse Apna Jawab Dekha Hai

-Ameer Kazalbash

 


 

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए

साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था

– मिर्ज़ा ग़ालिब

Aaina Dekh Apna Sa Muh Le Ke Re Gaye

Sahab Ko Dil N Dene Pe Kitna Guroor Tha

–  Mirza Ghalib

 


 

मैं तो ‘मुनीर’ आईने में ख़ुद को तक कर हैरान हुआ

ये चेहरा कुछ और तरह था पहले किसी ज़माने में

-मुनीर नियाज़ी

 

Mai Toh “Muneer” Aaine Me Khud Ko Tak Kar Hairaan Hua

Ye Chehra Kuch Aur Tha Pahle Kisi Zamane Me

-Munner Niyazi

आईना देखकर तसल्ली हुई

हमको इस घर में जानता है कोई

-गुलज़ार

Aaina Dekhkar Tasalli Hui

Humko Is Ghar Me Jaanta Hai Koi

– Gulzaar

 


 

आईना उठाने की ज़हमत क्यू की जाना ?

हमारी आंखो में कुछ देर देख लिया होता

 

 

Aaina Uthane Ki Zehmat Kyu Ki Jaana ?

Hamari Aankho Me Kuch Der Dekh Liya Hota

 


 

हमें माशूक़ को अपना बनाना तक नहीं आता

बनाने वाले आईना बना लेते हैं पत्थर से

-सफ़ी औरंगाबादी

 

Hamein Mashook Ko Apna Banana Tak Nahi Aata

Banane Waale Aaina Bana Lete Hai Patthar Se

-Safi Aurangabadi

 

Shayari On Aaina

 

Beautiful Aaina Shayari In Hindi | आईना शायरी

 

आईना ये तो बताता है कि मैं क्या हूँ मगर

आईना इस पर है ख़ामोश कि क्या है मुझ में

– कृष्ण बिहारी नूर

 

Aaina Ye Toh Batata Hai Ki Mai Kya Hoon Magar

Aaina Is Par Khamosh Hai Ki Kya Hai Mujh Me

– Krishna Bihari Noor

 


 

आजकल वो हमे कम देखते हैं

चलो चल के आईना देखते हैं

 

Aajkal Wo Hamein Kam Dekhte Hai

Chalo Chal Ke Aaina Dekhte Hai

 


 

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे

ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे

-मिर्ज़ा ग़ालिब

 

Aaina Kyu N Kahu Ki Tamasha Kahe Jise

Aisa Kaha Se Laun Ki Tujh Sa Kahe Jise

-Mirza Ghalib

 

Beautiful Aaina Shayari In Hindi | आईना शायरी

 

कोई भूला हुआ चेहरा नज़र आए शायद

आईना ग़ौर से तूने कभी देखा ही नहीं

– शकेब जलाली

 

Koi Bhoola Hua Chehra Nazar Aaye Shayad

Aaina Gaur Se Tune Kabhi Dekha Nahi

-Shakeb Jalali

 


 

जब शक्ल कोई तन्हा कमरे में सँवरती है

आईना ही जाने क्या उस पर गुजरती है

 

Jab Shakl Koi Tanha Kamre Me Gujarati Hai

Aaina Hi Jaane Kya Us Par Gujarti Hai

 


 

आईना नज़र लगाना चाहे भी तो कैसे लगाए

काजल लगाती है वो आईने में देखकर

 

 

Aaina Nazar Lagana Chahe Bhi Toh Kaise

Kajal Lagati Hai Wo Aaine Me Dekhkar

Beautiful Aaina Shayari In Hindi | आईना शायरी

 

मुद्दतें गुज़रीं मुलाक़ात हुई थी तुम से

फिर कोई और न आया नज़र आईने में

                                                                        – हनीफ़ कैफ़ी

 

Mudatte Guzri Mulakaat Hui Thi Tum Se

Phir Koi Aur N Aaya Nazar Aaine Me

-Haneef Kaifi

 

 

आईना कुछ नहीं नज़र का धोखा है

नज़र वही आता हैं जो दिल में होता है

Aaina Kuch Nahi Nazar Ka Dhokha Hai

Nazar Wahi Aata Hai Jo Dil Me Hota Hai

 


 

मै तो फना हो गया  उसकी एक झलक देखकर

 ना जाने हर रोज़ आईने  पर क्या गुजरती होगी

 

Mai Toh Fana Ho Gaya Uski Ek Jhalak Dekhkar

Na Jaane Har Roz Aaine Par Kya Gujarati Hogi

Beautiful Aaina Shayari In Hindi | आईना शायरी

 

मेरी जगह कोई आईना रख लिया होता

न जाने तेरे तमाशे में मेरा काम है क्या

-ज़ेब ग़ौरी

 

Meri Jagah Koi Aaina Rakh Liya Hota

N Jaane Tere Tamashe Me Mera Kaam Hai Kya

-Zeb Gauri

 


 

 पहले तो मेरी याद से आई हया उन्हें

फिर आइने में चूम लिया अपने-आप को

-शकेब जलाली

 

Pahle Toh Meri Yaad Se Aayi Haya

Phir Aaine Me Choom Liya Apne Aap Ko

-Shakeb Jalali

 


 

छेड़ मत हरदम, न आईना दिखा

अपनी सूरत से ख़फ़ा बैठे हैं हम

-मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

 

Cher Mat Hardum, N Aaina Dikha

Apni Surat Se Khafa Baithe Hai Hum

-Mushafi Gulaam Hamdaani

 

अपने आगे किसी को समझता नहीं

उसके हाथों में इक आईना कौन दे

-वसीम

 

Beautiful Aaina Shayari In Hindi | आईना शायरी

 

Apne Aage Kisi Ko Samjhata Nahi

Uske Hathon Me Ik Aaina Kaun De

-Waseem

 

Beautiful Aaina Shayari In Hindi | आईना शायरी

 


 

ख़्वाब का रिश्ता हक़ीक़त से न जोड़ा जाए

आईना है इसे पत्थर से न तोड़ा जाए

-मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

 

Khwaab Ka Rishta Haqiqat Se N Joda Jaaye

 Aaina Hai Ise Patthar Se N Toda Jaaye

                                                      Malikzada Manjoor Ahmad

 


 

आज टूट गया तो बचकर निकलते है

       कल आईना था तो रुक-रुक कर देखते थे

 

Aaj Toot Gaya Toh Bachkar Nikalte Hai

Kal Aaina Tha Toh Ruk-Rukkar Dekhte The

आईने में दिखता है टूटा सा अक्स अपना,

जख्मों की चोट खाकर यूं चटक सा गया हूं

 

Aaine Me Dikhta Hai Toota Sa Aks Apna

Zakhmo Ki Chot Khakar Yun Chatak Sa Gaya Hoon

 

आईना भी तुम्हे देख आहे भरता  होगा

इतना भी खुद को निहारा ना कीजिये

Aaina Bhi Tumhe Dekh Aahein Bharata Hoga

Itna Bhi Khud Ko Nihara Na Kijiye

 


 

आईना देख के बोले ये सँवरने वाले

                  अब तो बे-मौत मरेंगे मेरे मरने वाले – Daag Dehalvi

Aaina Dekh Ke Bole Ye Sawarne Waale

Ab Toh Be- Maut Marenge Mere Marne Waale

 

Read More-