Bazaar Shayari In Hindi | बाजार पर शायरी

Bazaar Shayari In Hindi | बाजार पर शायरी

 

जब बाज़ार गया था
तो इच्छाओं का खेत था – गोबिंद प्रसाद

 

Jab Bazaar Gaya Tha

Toh Ichaao Ka Khet Tha – Gobind Prashaad

 

जो बाज़ार चहकता था हर शाम
आज कुछ सुनसान सा लग रहा है – कमल उपाध्याय

 

Jo Bazaar Chehakata Tha Har Shaam

Aaj Kuch Sun-Saan Sa Lag Raha Hai – Kamal Upadhyaay

 

इसी बाज़ार तक बस रौशनी है
फिर इस के बा’द इक अंधी गली है – रहमान मुसव्विर

 

Isi Bazaar Tak Bas Roshani Hai

Phir Iske Baad Ik Andhi Gali Hai – Rehmaan Musavvir

 

मोहब्बत का जब रोज़ बाज़ार होगा
बिकेंगे सर और कम ख़रीदार होगा – मीर तक़ी मीर

 

Mohabbat Ka Jab Roz Bazaar Hoga

Bikenge Sar Aur Kam Kharidadaar Hoga – Mir Taki Mir

 

तुम शराफ़त कहाँ बाज़ार में ले आए हो
ये वो सिक्का है जो बरसों से नहीं चलता है – मुईन शादाब

 

Tum Sharafat Kahan Bazaar Me Le Aaye Ho

Ye Wo Sikka Hai Jo Barso Se Nahi Chalta Hai – Moeen Shadaab

 

किसी ने रक्खा है बाज़ार में सजा के मुझे
कोई ख़रीद ले क़ीमत मिरी चुका के मुझे – पवन कुमार

 

Kisi Ne Rakkha Hai Bazaar Me Saza Ke Mujhe

Koi Kharid Le Keemat Meri Chuka Ke Mujhe – Pawan Kumar

 

शायरी का गर्म सारे मुल्क में बाज़ार है
जिस को देखो वो क़लम काग़ज़ लिए तयार है – असरार जामई

 

Shayari Ka Garm Saare Mulk Me Bazaar Hai

Jis Ko Dekho Wo Kalam Kagaz Liye Taiyaar hai -Asraar Jaamai

 

अब हम भी सोचते हैं कि बाज़ार गर्म है
अपना ज़मीर बेच के दुनिया ख़रीद लें – इक़बाल अज़ीम

 

Ab Hum Bhi Sochate Hai Ki Bazaar Garm Hai

Apna Zameer Bech Ke Duniya Kharid Le – Iqbal Azaam

 

बाज़ार-ए-आरज़ू में कटी जा रही है उम्र
हम को ख़रीद ले वो ख़रीदार चाहिए -अज़ीम हैदर सय्यद

 

Bazaar-e-Aarjo Me Kati Ja Rahi Hai Umr

Hum Ko Kharid Le Wo Khariddaar Chahiye – Azeem Haidar Sayyed

 

हुस्न-ए-बाज़ार तो है गर्मी-ए-बाज़ार नहीं
बेचने वाले हैं सब कोई ख़रीदार नहीं -अहमद कमाल हशमी

 

Husn-E- Bazaar Toh Hai Garm-e-Bazaar Nahi

Bechane Waale Hai Sab Koi Khariddaar Nahi – Ahmad Kamaal Hashami

 

कुछ भी नहीं है बाक़ी बाज़ार चल रहा है
ये कारोबार-ए-दुनिया बेकार चल रहा है -सालिम सलीम

 

Kuch Bhi Nahi Hai Baaki Bazaar Chal Raha Hai

Ye Karobaar-e-Duniya Bekaar Chal Raha Hai – Salim Salim

 

Bazaar Shayari In Hindi | बाजार पर शायरी

 

मैं तो ख़ुद बिकने को बाज़ार में आया हुआ हूँ
और दुकाँ-दार ख़रीदार समझते हैं मुझे – शाहिद ज़की

 

Mai Toh Khud Bikne Ko Bazaar Me Aaya Hua Hu

Aue Dukaan Daar Kharidaar Samajhte Hai Mujhe – Shahid Zaki

 

क़ाएदे बाज़ार के इस बार उल्टे हो गए
आप तो आए नहीं पर फूल महँगे हो गए – नोमान शौक़

 

Kayade Bazaar Ke Is Baar Ulte Ho Gaye

Aap Toh Nahi Aaye Par Fool Mehange Ho Gaye – Nomaan Shauq

 

बाज़ार के दामों की शिकायत है हर इक को
फिर भी सर-ए-बाज़ार बड़ी भीड़ लगी है – मोहम्मद अल्वी

 

Bazaar Ke Daamo Ki Shikayat Hai Har Ik Ko

Phir Bhi Sar-e-Bazaar Badi Bheed Lagi Hai – Mohammad Alvi

 

लोग बाज़ार में फिरते हैं ज़रूरत के बग़ैर
दिल इसी वास्ते बिक जाता है क़ीमत के बग़ैर – तसनीम आबिदी

 

Log Bazaar Me Firate Hai Zarurat Ke Bagair

Dil Isi Vaaste Bik Jaata Hai Kimat Ke Bagair – Tasneem Aabidi

 

वो हुस्न वो ख़ुशबू मिरे किरदार में आ जाए
हर शख़्स मुझे देखने बाज़ार में आ जाए – इनाम शरर अय्यूबी

 

Wo Husn Wo Khusbu Mere Kirdaar Me Aa Jaaye

Har Shaksh Mujhe Dekhne Bazaar Me Aa Jaaye – Inaam Sharr Ayubbi

 

दुनिया तिरी सूरत के ख़रीदार बहुत थे
लुट कर ही गया जो तिरे बाज़ार से निकला – फ़ौज़िया शेख़

 

Duniya Teri Soorat Ke Kharidadaar Bahut The

Lut Kar Hi Gaya Jo Tere Bazaar Se Nikla – Faujiya Sheikh

 

इश्क़ के बाज़ार में आ ही गए
जो भी हो अंजाम हो आग़ाज़ कुछ – प्रमोद पुन्ढ़ीर प्यासा

 

Ishq Ke Bazaar Me Aa Hi Gaye

Jo Bhi Ho Anjaam Ho Agaaj Kuch – Pramod Pundhir Pyasa

 

सोचूँ तो बाज़ार भी छोटा लगता है
घर के अंदर इतनी ज़रूरत रक्खी है – परवेज़ अख़्तर

 

Sochu Toh Bazaar Bhi Chota Lagta Hai

Ghar Ke Andar Itni Jarurat Rakkhi Hai – Parwez Akhtar

 

मियाँ बाज़ार को शर्मिंदा करना क्या ज़रूरी है
कहीं इस दौर में तहज़ीब के ज़ेवर बदलते हैं – शोएब निज़ाम

 

Miyaan Bazaar Ko Sharminda Karna Kya Zaruri Hai

Kahin Is Daur Me Tehzeeb Ke Jevar Badalte Hai – Shoeb Nizaam

 

दर्द को बेच कर हो मुनाफ़ा’ जहाँ
ऐसा गुमनाम बाज़ार होगा कहीं – सुनील राही

 

Dard Ko Bechkar Ho Munaafa Jahan

Aisa Gumnaam Bazaar Hoga Kahin – Sunil Raahi

 

ऐसा है कौन दिल का ख़रीदार जिस पे तुम
छोटी सी इस दुकान को बाज़ार करते हो – फ़रहत एहसास

 


Read More –