Aurat Shayari In Hindi | औरत शायरी

Aurat Shayari In Hindi | औरत शायरी

 

नारी तुम प्रेम हो, आस्था हो, विश्वास हो,
टूटी हुई उम्मीदों की एकमात्र आस हो

 

Naari Tum Prem Ho, Aastha Ho, Vishwas Ho

Tooti Hui Umeedo Ki Ekmatr Aas Ho

 

तिरे माथे पे ये आँचल बहुत ही ख़ूब है लेकिन
तू इस आँचल से इक परचम बना लेती तो अच्छा था – असरार-उल-हक़ मजाज़

 

Teri Mathe Pe Ye Aanchal Bahut Hi Khoob Hai Lekin

Tu Is Aanchal Se Ik Parcham Bana Leti Toh Achcha Tha – Asraar-ul-Haq-Mazaaz

 

क्यों कहती है दुनिया कि नारी कमजोर हैं,
आज भी नारी के हाथों में घर चलाने की डोर हैं।

 

Kyo Kehti Hai Duniya Ki Naari Kamjor Hai

Aaj Bhi Naari Ke Hathon Me Ghar Chalane Ki Dor Hai

 

एक औरत से वफ़ा करने का ये तोहफ़ा मिला
जाने कितनी औरतों की बद-दुआएँ साथ हैं – बशीर बद्र

 

Ek Aurat Se Wafa Karne Ka Ye Tohafa Mila

Jaane Kitni Auraton Ki Bad-Duaye Sath Hai – Bashir Badr

 

Woman Shayari in Hindi

 

एक घर की खिदमत की, और एक के दिल से मोहब्बत की,
दोनों फर्ज निभा कर उसने, सारी उम्र इबादत की।

 

Ek Ghar Ki Khidmat Ki Aur Ek Ke Dil Se Mohabbat Ki

Dono Farz Nibha Kar Usne, Saari Umr Ibadat Ki

 

कौन बदन से आगे देखे औरत को
सब की आँखें गिरवी हैं इस नगरी में – हमीदा शाहीन

 

Kaun Badan Se Aage Dekhe Aurat Ko

Sab Ki Aankhe Girvi Hai Is Nagri Me – Hameeda Shaheen

 

बताऊँ क्या तुझे ऐ हम-नशीं किस से मोहब्बत है
मैं जिस दुनिया में रहता हूँ वो इस दुनिया की औरत है – असरार-उल-हक़ मजाज़

 

Bataun Kya Tujhe Ae Hamnasheen, Kis Se Mohabbat Hai

Mai Jis Duniya Me Rehta Hu Wo Is Duniya Ki Aurat Hai – Asraar-ul-Haq Mazaaz

 

एक औरत जिस आदमी से प्यार करती है उसका चेहरा ऐसे पढ़ लेती है
जैसे एक नाविक खुले समुन्द्र को

 

Ek Aurat Jis Aadami Se Pyaar Karti Hai Uska Chehra Aise Padh Leti Hai

Jaise Ek Naavik Khule Samudra Ko

 

अच्छी-ख़ासी रुस्वाई का सबब होती है
दूसरी औरत पहली जैसी कब होती है – फ़े सीन एजाज़

 

Achchi Khaasi Ruswaayi Ka Sabab Hoti Hai

Doosari Aurat Pehli jaisi Kab Hoti Hai – Fe Seen Azaaz

 

आसान नहीं है, औरत का किरदार निभा पाना,
एक सफ़ेद चादर है, और दाग पानी से भी लग सकता है।

 

Aasaan Nahi Hai, Aurat Ka Kirdaar Nibha Paana

Ek Safed Chadar Hai, Aur Daag Paani Se Bhi Lag Sakta Hai

 

Aurat Ki Izzat Shayari

 

लोग औरत को फ़क़त जिस्म समझ लेते हैं
रूह भी होती है उस में ये कहाँ सोचते हैं – साहिर लुधियानवी

 

Log Aurat Ko Fakat Jism Samajh Lete Hai

Rooh Bhi Hoti Hai Us Me Ye Kahan Sochate Hai – Saahir Ludhiyanawi

 

दिलों में बस जाए वो मोहब्बत हूँ,
कभी बहन तो कभी ममता की मूरत हूँ।

 

Dilon Me Bas Jaaye Wo Mohabbat Hu

Kabhi Bahan Toh Kabhi Mamta Ki Murat Hu

 

ये औरतों में तवाइफ़ तो ढूँड लेती हैं
तवाइफ़ों में इन्हें औरतें नहीं मिलतीं – मीना नक़वी

 

Ye Auraton Me Tawayaf Toh Dhoondh Lete Hai

Tawayafon Me Inhe Auratein Nahi Milti – Meena Naqvi

 

सब कहते है औरत का अपना कोई घर नहीं होता
लेकिन सच तो यह है कि कोई घर बिना औरत के घर नहीं होता

 

Sab Kehte Hai Aurat Ka Apna Koi Ghar Nahi Hota

Lekin Sach Toh Yeh Hai Ki Koi Ghar Bina Aurat Ke Ghar Nahi Hota

 

Aurat Shayari In Hindi | औरत शायरी

 

घर में रहते हुए ग़ैरों की तरह होती हैं
लड़कियाँ धान के पौदों की तरह होती हैं – मुनव्वर राना

 

Ghar Me Rehte Hue Gairon Ki Tarah Rehti Hai

Ladkiyaa Dhaan Ke Paudhon Ki Tarah Hoti Hai – Munavvar Rana

 

नायाब होते हैं वो मर्द जो गुस्से में भी,
औरत से बात करने की तमीज नहीं भूलते।

 

Nayaab Hote Hai Wo Mard Jo Gusse Me Bhi

Aurat Se Baat Karne Ki Tameez Nahi Bhoolate

 

छुट्टी तो आती है, पर कोई आराम नहीं आता,
क्यों औरत के हिस्से में, उसका इतवार नहीं आता।

 

Chutti Toh Aati Hai, Par Koi Aaraam Nahi Aata

Kyo Aurat Ke Hisse Me, Uska Itwaar Nahi Aata

 

उसे हम पर तो देते हैं मगर उड़ने नहीं देते
हमारी बेटी बुलबुल है मगर पिंजरे में रहती है – रहमान मुसव्विर

 

Use Ham Par Toh Dete Hai Magar Udne Nahi Dete

Hamari Beti Bulbul Hai Magar Pinjare Me Rehti Hai – Rehmaan Musavvir

 


Read More –