Alone Shayari In Hindi | Alone Sad Shayari

 

Alone Shayari In Hindi | Alone Sad Shayari

 

कितनी अजीब है इस शहर की तन्हाई भी,
हजारों लोग हैं मगर कोई उस जैसा नहीं है।

 

Kitni Ajeeb Hai Hai Is Shehar Ki Tanhaai Bhi
Hazaron Log Hai Magar Koi Us Jaisa Nahi Hai

 

कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,
तुम न होते न सही… ज़िक्र तुम्हारा होता।

 

Kuch Toh Tanhaai Ki Raaton Me Sahara Hota
Tum N Hote N Sahi…Zikr Tumhara Hota

 

उसे पाना उसे खोना उसी के हिज्र में रोना,
यही गर इश्क है तो हम तन्हा ही अच्छे हैं।

 

Use Paana Use Khona Usi Ke Hizr Me Rona
Yahi Gr Ishq Hai Toh Hum Tanha Hi Achche Hai

 

तेरे बगैर इस मौसम में वो मजा कहाँ,
काँटों की तरह चुभती है बारिश की बूँदें।

 

Tere Bagair Is Mausam Me Wo Maza Kahan
Kanto Ki Tarah Chubhati Hai Barish Ki Boonde

 

एक तेरे ना होने से बदल जाता है सब कुछ
कल धूप भी दीवार पे पूरी नहीं उतरी

 

Ek Tere Na Hone Se Badal Jaata Hai Sab Kuch
Kal Dhoop Bhi Deewar Pe Poori Nahi  Utari

 

Feeling Alone shayari In Hindi

 

यूँ भी हुआ रात को जब सब सो गए,
तन्हाई और मैं तेरी बातों में खो गए।

 

Yun Bhi Hua Raat Ko Jab So Gaye
Tanhaai Aur Mai Teri Baaton Me Kho Gaye

 

कितनी फ़िक्र है कुदरत को मेरी तन्हाई की,
जागते रहते हैं रात भर सितारे मेरे लिए

 

Kitni Fikr Hai Kudarat Ko Meri Tanhaai Ki
Jgate Rehate Hai Raat Bhar Sitaare Mere Liye

 

चलो अब जाने भी दो क्या करोगे दास्ताँ सुनकर,
ख़ामोशी तुम समझोगे नहीं और बयाँ हमसे होगा नहीं।

 

Chalo Ab Jaane Bhi Do Kya Karoge Daastan Sunkar
Khamoshi Tum Samjhoge Nahi Aur Baya Hamse Hoga Nahi

 

सहारा लेना ही पड़ता है मुझको दरिया का,
मैं एक कतरा हूँ तनहा तो बह नहीं सकता

 

Sahara Lena Hi Padta Hai Mujhko Dariya Ka
Mai Ek Katra Hoon Tanha Toh Beh Nahi Sakta

 

बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी,
फिर भी बेइंतहा तुझे चाहने की बेबसी मेरी

 

Be-Wakt, Be-Wajah, Be-Sabab Si Be-Rukhi Teri
Phir Bhi Beimtihaa Tujhe Chahane Ki Bebasi Meri

 

एक पुराना मौसम लौटा याद भरी पुरवाई भी,
ऐसा तो कम ही होता है वो भी हो तन्हाई भी

 

Ek Puraana Mausam Lauta Yaad Bhari Purwaai Bhi
Aisa Toh Kam Hi Hota Hai Wo Bhi Ho Tanhaai Bhi

 

Alone Shayari In Hindi For Boyfriend

 

वो हर बार मुझे छोड़ के चले जाते हैं तन्हा,
मैं मज़बूत बहुत हूँ लेकिन कोई पत्थर तो नहीं हूँ

 

Wo Har Baar Mujhe Chod Ke Chale Jaate Hai Tanha
Mai Majboot Bahut Hoon Lekin Koi Patthar Toh Nahi Hoon

 

तुम्हारे बगैर ये वक़्त ये दिन और ये रात,
गुजर तो जाते हैं मगर गुजारे नहीं जाते।

 

Tumhare Bagair Ye Wakt Ye Din Aur Ye Raat
Guzar Toh Jaate Hai Magar Guzaare Nahi Jaate

 

कुछ कर गुजरने की चाह में कहाँ-कहाँ से गुजरे,
अकेले ही नजर आये हम जहाँ-जहाँ से गुजरे

 

Kuch Kar Gujarne Ki Chaah Me Kahan-Kahan Se Guzre
Akele Hi Nazar Aaye Hum Jahan-Jahan Se Gujre

 

हम अंजुमन में सबकी तरफ देखते रहे,
अपनी तरह से कोई हमें अकेला नहीं मिला।

 

Hum Anjuman Me Sabki Taraf Dekhte Rahe
Apni Tarah Se Koi Hamein Akela Nahi Mila

 

जब से देखा है चाँद को तन्हा,
तुम से भी कोई शिकायत ना रही।

 

Jab Se Dekha Hai Chand Ko Tanha
Tum Se Bhi Koi Shikayat Na Rahi

 

वो भी बहुत अकेला है शायद मेरी तरह,
उस को भी कोई चाहने वाला नहीं मिला।

 

Wo Bhi Akela Hai Shayad Meri Tarah
Us Ko Bhi Koi Chahane Waala Naho Mila

 

मैं हूँ दिल है तन्हाई है,
तुम भी जो होते तो अच्छा होता।

 

Mai Hoon Dil Hai Tanhaai Hai
Tum Bhi Jo Hote Toh Achcha Hota

 

Alone Shayari In Hindi For Girlfriend

 

सौ बार चमन महका सौ बार बहार आई,
दुनिया की वही रौनक दिल की वही तन्हाई

 

Sau Baar Chaman Mehaka Sau Baar Bahaar Aayi
Duniya Ki Wahi Raunak Dil Ki Wahi Tanhaai

 

कहने लगी है अब तो मेरी तन्हाई भी मुझसे,
मुझसे कर लो मोहब्बत मैं तो बेवफा भी नहीं।

 

Kehane Lagi Hai Ab Toh Meri Tanhaai Bhi Mujhse
Mujhse Kar Lo Mohabbat Mai Toh Bewafa Bhi Nahi

 

आँखों ने ज़र्रे ज़र्रे पर सजदे लुटाये हैं,
न जाने जा छुपा है मेरा पर्दा-नसीन कहाँ

 

Aankho Me Zarre-Zarre Par Sajde Lutaaye Hai
N Jaane Kaha Chupa Hai Mera Parda-Naseen Kahan

 

कुदरत के इन हसीन नजारों का हम क्या करें,
तुम साथ नहीं तो इन चाँद सितारों का क्या करें

 

Kudrat Ke In Haseen Nazaron Ka Hum Kya Karein
Tum Sath Nahi Toh In Nazaron Ka Kya Karein

 

अजीब सी वेताबी रहती है तेरे बिना,
रह भी लेते हैं और रहा भी नहीं जाता

 

Ajeeb Si Be-Taabi Rehati Hai Tere Bina
Reh Bhi Lete Hai Aur Raha Bhi Nahi Jaata

 

देख कर चेहरा पलट देते हैं अब वो आइना,
मौसम-ए-फुरकत उन्हें सूरत कोई भाती नहीं

 

Dekh Kar Chehara Palat Dete Hai Ab Wo Aaina
Mausam-e-Furkat Unhe Soorat Koi Bhaati Nahi

 

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले,
चले भी आओ की गुलशन का कारोबार चले।

 

Gulon Me Rang Bhare Baad-e-Nau Bahaar Chale
Chale Bhi Aao Ki Gulshan Ka Karobaar Chale

 

तन्हाई रही साथ ता-जिंदगी मेरे,
शिकवा नहीं कि कोई साथ न रहा

 

Tanhaai Rahi Sath Ta-Zindagi Mere
Shikwa Nahi Ki Koi Sath N Raha

 


 
Read More –