Allama Iqbal Shayari In Hindi | अल्लामा इक़बाल शायरी

Allama Iqbal Shayari In Hindi | अल्लामा इक़बाल शायरी

 

 

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा

हम बुलबुलें हैं इस की ये गुलसिताँ हमारा

 

Saare Jahan Se Achcha Hindostaan Hamara
Hum Bulbile Hai Iske Ye Gulsitaan Hamara

 

तिरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ

मिरी सादगी देख क्या चाहता हूँ

 

Tere Ishq Ki Intihaa Chahta Hu
Meri Saadgi Dekh Kya Chahta Hai

 

Allama Iqbal Ki Shayari

मस्जिद तो बना दी शब भर में ईमाँ की हरारत वालों ने

मन अपना पुराना पापी है बरसों में नमाज़ी बन न सका

 

Masjid Toh Bana Di Shab Bhar Me Imaan Ki Hararat Walon
Man Apna Puraana Paapi Hai Barso Me Namaji N Ban Saka

ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले

ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

 

Khudi Ko Kar Buland Itna
Khuda Bande Se Puche Bata Teri Raza Kya Hai

 

Ramzan Shayari By Allama Iqbal

 

माना कि तेरी दीद के क़ाबिल नहीं हूँ मैं

तू मेरा शौक़ देख मिरा इंतिज़ार देख

 

Maana Ki Teri Deed Ke Qabil Nahi Hu Mai
Tu Mera Shauq Dekh Mera Intezaar Dekh

हया नहीं है ज़माने की आँख में बाक़ी

ख़ुदा करे कि जवानी तिरी रहे बे-दाग़

 

Haya Nahi Zamane Ki Aankh Me Baaki
Khuda Kare Ki Jawani Teri Be-Daag Rahe

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है

मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी

 

Nasha Pila Ke Toh Giraana Sabko Aata Hai
Maza Toh Tab Hai Ki Girton Ko Thaam Le Saaki

 

Allama Iqbal Shayari In English

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं

अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं

 

Sitaaron Se Aage Jahan Aur Bhi Hai
Abhi Ishq Ke Imtihaan Aur Bhi Hai

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है

पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है

 

Dil Se Jo Baat Nikalti Hai Asar Rakhti Hai
Par Nahi Taakat-e-Parwaaz Magar Rakhti Hai

ख़ुदी वो बहर है जिस का कोई किनारा नहीं

तू आबजू इसे समझा अगर तो चारा नहीं

 

Khudi Wo Bahar Hai Jiska Koi Kinaara Nahi
Tu Aabju Ise Samjha Agar Toh Chaara Nahi

 

Allama Iqbal 2 Line Shayari

सौ सौ उमीदें बंधती है इक इक निगाह पर

मुझ को न ऐसे प्यार से देखा करे कोई

 

Sau-Sau Ummidein Badhti Hai Ik-Ik Nigaah Par
Mujhko N Aise Pyaar Se Dekha Kare Koi

इल्म में भी सुरूर है लेकिन

ये वो जन्नत है जिस में हूर नहीं

 

Ilm Me Bhi Suroor Hai Lekin
Ye Wo Jannat Hai Jisme Hoor Nahi

 

Allama Iqbal Islamic Shayari

मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना

हिन्दी हैं हम वतन है हिन्दोस्ताँ हमारा

 

Majhab Nahi Sikhata Aapas Me Bair Rakhna
Hindi Hai Hum Watan Hai Hindostaan Hamara

 

Dr Allama Iqbal Shayari

बातिल से दबने वाले ऐ आसमाँ नहीं हम

सौ बार कर चुका है तू इम्तिहाँ हमारा

 

Baatil Se Dabne Waale Ae Aasmaa Nahi Hum
Sau Baar Kar Chuka Hai Tu Imtihaa Hamara

 

Shayari Of Allama Iqbal

ये जन्नत मुबारक रहे ज़ाहिदों को

कि मैं आप का सामना चाहता हूँ

 

Ye Jannat Mubarak Rahe Zahidon Ko
Ki Mai Aap Ka Samna Chahta Hu

अमल से ज़िंदगी बनती है जन्नत भी जहन्नम भी

ये ख़ाकी अपनी फ़ितरत में न नूरी है न नारी है

 

Amal Se Zindagi Banti Hai, Jannat Bhi, Jahannam Bhi
Ye Khaaki Apni Apni Fitrat Me N Noori Hai N Naari Hai

जिन्हें मैं ढूँढता था आसमानों में ज़मीनों में

वो निकले मेरे ज़ुल्मत-ख़ाना-ए-दिल के मकीनों में

 

Jinhe Mai Dhoondhta Tha Aasmaano Me Zamino Me
Wo Nikle Mere Zulmat-Khana-e-Dil Ke Makino Me

भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी

बड़ा बे-अदब हूँ सज़ा चाहता हूँ

 

Bhari Bazm Me Raaz Ki Baat Keh Di
Bada Be-Adab Hu Saza Chahta Hu

न समझोगे तो मिट जाओगे ऐ हिन्दोस्ताँ वालो

तुम्हारी दास्ताँ तक भी न होगी दास्तानों में

 

N Samjhoge Toh Mit Jaoge Ae Hindostaa Waalon
Tumhari Daastaan Tab Bhi N Hogi Daastano Me

हरम-ए-पाक भी अल्लाह भी क़ुरआन भी एक

कुछ बड़ी बात थी होते जो मुसलमान भी एक

 

Haram-e-Paak Bhi Ullah Bhi Kuraan Bhi Ek
Kuch Badi Baat Thi Hote Jo Musalmaan Bhi Ek

फ़क़त निगाह से होता है फ़ैसला दिल का

न हो निगाह में शोख़ी तो दिलबरी क्या है

 

Fakat Nigaah Se Hota Hai Faisla Dil Ka
N Ho Nigaah Me Sokhi Toh Dilbari Kya Hai

ढूँडता फिरता हूँ मैं ‘इक़बाल’ अपने आप को

आप ही गोया मुसाफ़िर आप ही मंज़िल हूँ मैं

 

Dhoondhta Firta Hu Mai “Iqbal” Apne Aap Ko
Aap Hi Goya Musafir Aap Hi Manzil Hu Mai

 


Read More –