Aaj Shayari In Hindi | आज पर शायरी

Aaj Shayari In Hindi | आज पर शायरी

 

आज का झगड़ा आज चुका
कल की बातें कल पर टाल – अंजुम रूमानी

 

Aaj Ka Jhagada Aaj Chuka

Kal Ki Baatein Kal Par Tala – Anjum Rumani

 

आज टूट गया तो बचकर निकलते है,
कल आईना था तो रुक-रुक कर देखते थे

 

Aaj Toot Gaya Toh Bachkar Nikalte Hai

Kal Aaina Tha Toh Ruk-Ruk Kar Dekhte The

 

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे – आशुफ़्ता चंगेज़ी

 

Hamein Bhi Aaj Hi Karna Tha Intezaar Us Ka

Use Bhi Aaj Hi Wade Sab Bhool Jaane The – Aashufta Changeji

 

मेरे साथ मिल के हँसने वालो,
कहाँ हो आज की रोना है मुझे

 

Mere Sath Mil Ke Hasane Waalon

Kahan Ho Aaj Ki Rona Hai Mujhe

 

ज़िंदगी आज तेरा लुत्फ़ ओ करम
कम अगर है तो आज कम ही सही – इन्दिरा वर्मा

 

Zindagi Aaj Tera Lutf – O – Karam

Kam Agar Hai Toh Aaj Kam Hi Sahi – Indira Verma

Aaj Shayari In Hindi | आज पर शायरी

 

फासले इस कदर आज है रिश्तों में,
जैसे कोई क़र्ज़ चुका रहा हो किस्तो में

 

Fasale Is Qadar Aaj Hai Rishton Me

Jaise Koi Karz Chuka Raha Ho Kishton Me

 

डूब जाएगा आज भी ख़ुर्शीद
आज भी तुम नज़र न आओगे – हबीब जालिब

 

Doob Jayega Aaj Bhi Khurshid

Aaj Bhi Tum Nazar Na Aaoge – Habeeb Zalib

 

Shayari On Today

आज ज़रा फ़ुर्सत पाई थी आज उसे फिर याद किया
बंद गली के आख़िरी घर को खोल के फिर आबाद किया – निदा फ़ाज़ली

 

Aaj Zara Fursat Paayi Thi Aaj Use Phir Yaad Kiya

Band Gali Ke Aakhiri Ghar Ko Khol Ke Phir Abaad Kiya – Nada Fazli

 

हाल पूछा न खैरियत पूछी,
आज भी उसने मेरी हैसियत पूछी

 

Haal Poocha N Khairiyat Poochi

Aaj Bhi Usne Meri Haisiyat Poochi

 

दर्द-ए-दिल आज भी है जोश-ए-वफ़ा आज भी है
ज़ख़्म खाने का मोहब्बत में मज़ा आज भी है – बाक़र मेहदी

 

Dard-e-Dil Aaj Bhi Hai Josh-e-Wafa Aaj Bhi Hai

Zakhm Khaane Ka Mohabbat Me Maza Aaj Bhi Hai – Bakar Mehandi

 

सिलसिला आज भी वही जारी है,
मेरी नींदों पर तेरी याद भारी है

 

Silsila Aaj Bhi Wahi Jaari Hai

Meri Nindon Par Teri Yaad Bhari Hai

 

आज फिर दर्द उठा दिल के निहाँ ख़ाने में

आज फिर लोग सताने को चले आएँगे – चन्द्रभान ख़याल

 

Aaj Phir Dard Utha Dil Ke Nihaa Khaane Me

Aaj Phir Log Satane Ko Chale Aayenge – Chandrabhan Khayal

Aaj Shayari In Hindi | आज पर शायरी

Aaj Par Shayari

 

जो बात तुझ से चाही है अपना मिज़ाज आज
क़ुर्बान तेरी कल पे न टाल आज आज आज – इंशा अल्लाह ख़ान इंशा

 

Jo Baat Tujh Se Chahi Hai Apna Mizaaz Aaj
Kurbaani Teri Kal Pe N Taal Aaj Aaj Aaj – Insaa Allah Khan Insaa

 

किसी नजर को तेरा इन्तजार आज भी है,
कहाँ हो तुम ये दिल बेकरार आज भी है

 

Kisi Nazar Ko Tera Intezaar Aaj Bhi Hai

Kahan Ho Tum Ye Dil Bekaraar Aaj Bhi Hai

 

कैसी ये अफ़्सुर्दगी है आज-कल
ज़िंदगी में कुछ कमी है आज-कल – अशोक गोयल अशोक

 

Kais Ye Afsurdagi Hai Aaj Kal

Zindagi Me Kuch Kami Hai Aaj Kal – Ashok Goyal Ashok

 

आज टूटेगा गुरूर चाँद का देखना दोस्तों,
आज मैंने उन्हें छत पर बुला रखा है

 

Aaj Tootega Guroor Chand Ka Dekhna Doston

Aaj Maine Unhe Chat Par Bula Rakha Hai

 

कोई मंज़िल न रास्ता है आज
लम्हा लम्हा भटक रहा है आज – शबनम नक़वी

 

Koi Manzil N Raasta Hai Aaj

Lamha-Lamha Bhatak Raha Hai Aaj – Shabnam Maqvi

 

बड़ी जोर से हँसी मैं मुद्दतों के बाद,
आज फिर किसी ने कहा मेरा ऐतबार कीजिये

 

Badi Zor Se Hasi Mai Mudatton Ke Baad

Aaj Phir Kisi Ne Kaha Mera Aaitbaar Kijiye

 

हम से रूठी हर ख़ुशी है आज कल
कश्मकश में ज़िंदगी है आज कल – काैकब ज़की

 

Ham Se Roothi Har Khushi Hai Aaj Kal

Kashmkash Me Zindagi Hai Aaj Kal – Kaukab Zaki

 

तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल,
आज भी हार जाने का हौसला है मुझमें

 

Tu Mohabbat Se Koi Chaal Toh Chal

Aaj Bhi Haar Jaane Ka Hausala Hai Mujhme

 

आज ख़ुद से ज़रा सी देर मिलें

आज पूरी चलो मुराद करें -नुज़हत अब्बासी

 

Aaj Khud Se Zara Si Der Mile

Aaj Poori Chalo Mooraad Karein – Nuzahar Abbasi

 

ना चाँद निकला, ना तुमने दस्तक दी
कितनी बोझिल है आज की ये शाम

 

Na Chand Nikala, Na Tumne Dastak Di

Kitni Bojhil Hai Aaj Ki Shaam

 

वो नज़र रूठी हुई है आज भी
बिखरी बिखरी ज़िंदगी है आज भी – रक़ीब अंजुम

 

Wo Nazar Roothi Hui Hai Aaj Bhi

Bikhari-Bikhari Zindagi Hai Aaj BhI – Raqeeb Anjum

 

आज शायरी नही बस इतना सुन लो,

मैं हूँ तन्हा और वजह तुम हो

 

Aaj Shayari Nahi Bas Itna Sun Lo

Mai Hu Tanha Aur Wajah Tum Ho

 

आज परवाज़ ख़यालों की जुदा सी पाई
आज फिर भूली हुई याद किसी की आई – अलीना इतरत

 

Aaj Parwaaj Khayalon Ki Juda Si Paayi

Aaj Phir Bhooli Hui Yaad Kisi Ki Aayi – Aleena Itarat

 

इश्क़ ख़ुद माइल-ए-हिजाब है आज

हुस्न मजबूर-ए-इज़्तिराब है आज – सीमाब अकबराबादी

 

Ishq Khud Mayal – e – Hijaab Hai Aaj

Husn Majboor-e-Ijtiraab Hai Aaj – Seemaab Akbarabaadi

 

आज कुआँ भी चीख़ उठा है
किसी ने पत्थर मारा होगा – साहिल अहमद

 

Aaj Kuwa Bhi Cheekh Utha Hai

Kisi Ne Patthar Mara Hoga – Saahil Ahmad

 

आज का ख़त ही उसे भेजा है कोरा लेकिन
आज का ख़त ही अधूरा नहीं लिख्खा मैं ने – हामिद मुख़्तार हामिद

 

Aaj Ka Khat Hi Use Bheja Hai Kora Lekin

Aaj Ka Khat Hi Adhoora Nahi Likkha Maine – Hamid Mukhtar Hamid

 

बहुत ख़ुश थी मैं आज
न होती मैं काश – अंकिता गर्ग

 

Bahut Khush Thi Mai Aaj

N Hoti Mai Kash – Ankita Garg

 

आज ये रात कटेगी क्यूँकर
आज फिर वो बे-सबब याद आया – तारिक़ राशीद दरवेश

 

Aaj Ye Raat Kategi Kyukar

Aaj Phir Wo Be-Sabab Yaad Aaya – Taarik Rashid Darwesh

 

आज मौसम बड़ा सुहाना है
याद आया कोई फ़साना है – हर्षल ग़ाफ़िल

 

Aaj Mausam Bada Suhaana Hai

Yaad Aaya Koi Fasana Hai – Harshad Gaafil

 

ख़ुशबू से हो सका न वो मानूस आज तक
काँटों के नश्तरों में है मल्बूस आज तक – सदफ़ जाफ़री

 

Khusbu Se Ho Saka N Wo Manoos Aaj Tak

Kanton Ke Nashtaron Me Hai Malboos Aaj Tak – Sadaf Zafari

 

हम हैं और उन की ख़ुशी है आज-कल
ज़िंदगी ही ज़िंदगी है आज-कल – शकील बदायुनी

 

Hum Hai Aur Unki Khushi Hai Aaj Kal

Zindagi Hi Zindahi Hai Aaj Kal – Shakeel Badayuni

 

आज फिर नींद को आँखों से बिछड़ते देखा
आज फिर याद कोई चोट पुरानी आई – इक़बाल अशहर

 

Aaj Phir Nind Ko Aankho Se Bicharte Dekha

Aaj Phir Yaad Koi Chot Puraani Aayi – Iqbal Ashhar

 

मर्तबा आज भी ज़माने में
प्यार से आजिज़ी से मिलता है – कामरान आदिल

 

Martaba Aaj Bhi Zamane Me

Pyaar Se Azizi Se Milta Hai – Kaamran Aadil

 

दिल में मेरे फिर ख़याल आता है आज
कोई दिलबर बे-मिसाल आता है आज -मह लक़ा चंदा

 

Dil Me Mere Phir Khayal Aata Hai Aaj

Koi Dilbar Be-Mishaal Aata Hai Aaj – Mah Laka Chanda